इन सात घरेलु उपायो से 8 दिन में बालो का झड़ना रोके व् 21 दिनों में नए बाल उगते हुए देखे.

Hair Loos
ये समझना ज़रूरी है कि गंजापन कैसे होता है
मर्दों में अनुवाँशिक प्रवृति होने के कारण गंजापन होता है और उसमें मुख्यतः ऐंड्रॉजेन डीहाईडरोटेस्टोस्टरोन (dihydrotestosterone) (HT) का सीधा सम्बंध गंजेपन से है।

दोस्तों यदि आप या आपके कोई जानकार गंजेपन के शिकार हैं, तो यहां हम आपको इससे छुटकारा पाने के आसान तरीके बताने जा रहे हैं। इनमें से कुछ आयुर्वेदिक उपाय हैं तो कुछ धार्मिक ग्रंथों में वर्णित वे तरीके हैं जो गंजेपन का इलाज करते हैं।

सबसे अच्छी बात तो यह है कि इन उपायों को करने में ना तो आपका अधिक समय लगेगा, ना ही बहुत ज्यादा मेहनत और ना ही जरूरत से ज्यादा खर्चा आएगा। बहुत ही कम बजट में आप गंजेपन जैसी समस्या को हमेशा के लिए बाय-बाय कह सकेंगे। शुरुआत करते हैं कुछ आयुर्वेदिक नुस्खों के साथ, वे उपाय जो आप घर बैठे-बैठे ही कर सकते हैं।
ये समझना ज़रूरी है कि गंजापन कैसे होता है
· मर्दों में अनुवाँशिक प्रवृति होने के कारण गंजापन होता है और उसमें मुख्यतः ऐंड्रॉजेन डीहाईडरोटेस्टोस्टरोन (dihydrotestosterone) (HT) का सीधा सम्बंध गंजेपन से है।
· ऐसा मानना है कि बालों की जड़ में बढ़े हुए डी.एच.टी.(DHT) उसके वर्धन के चक्र को कम कर देता है और नए बालों के निकलने में विलम्ब या देरी कर देता है।
· आनुवांशिकता, गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन, थाइराइड की बीमारी बालों के जड़ों का कमजोर होना, तनाव या अत्यधिक चिंता, सिर में रक्त का संचार अच्छी तरह से न होना, मेनोपोज़, स्कैल्प में किसी तरह का इन्फेक्शन, शरीर में पोषक तत्वों की कमी, रूसी की समस्या, 
घर पर बनाये गंजापन दूर करने का आयल
दोस्तों मात्र २०० रूपए में आप भी गंजेपन को दूर करने का आयल खुद तैयार कर सकते है आपको इसके लिए १०० ग्राम कलोंजी का तेल , १०० ग्राम नारियल तेल, आधा छोटा चम्मच भीमसेनी कपूर,२० ग्राम नीम का तेल तथा १०० ग्राम अमला, रीठा, करी पत्ता इन सभी सामग्री को एक बर्तन में रखकर कर गैस पर चढ़ा दे व् उसमे थोड़ा पानी डाल दे और धीमी आंच पे पकने दे जब सारा पानी सूख जाये तो इसे छान ले और एक बर्तन में भरकर कुछ  दिन (३ से ४ दिन ) धूप में रखे. अब आपका नए बाल उगने का तेल तैयार है इसे हफ्ते में तीन दिन लगाए और इसे ५ से ६ घंटे तक लगा रहने दे और सुबह किसी आयुर्वेदिक शैम्पू से बाल को धो ले डेढ़ महीने में आपके बाल झड़ना बंद हो जायेंगे और जो बाल उड़ गए थे वो भी निकलना शुरू हो जायेगे। लेकिन मित्रो ये उपाय आपको नियमित रूप से करना है तभी आपको अच्छा परिणाम मिलेगा कब्ज का परमानेंट इलाज
गंजेपन के अन्य आयुर्वेदिक उपाय-
• नारियल का तेल– नारियल का तेल हमेशा से ही बालों के लिए बहुत लाभकारी रहा है। यह किसी भी समस्या से राहत दिलाने में बहुत मदद करता है। रात को सोने से पहले नारियल का तेल अच्छी तरह से सिर पर लगायें और अगले दिन सुबह पानी से धो लें। नारियल के तेल को और भी असरदार बनाने के लिए नींबू के बूँद डालें। यह मिश्रण बालों का झड़ना कम कर देता है।
• प्याज में मौजूद सल्फर सिर में रक्त के प्रवाह को तेज करता है। जिससे गंजपन की बीमारी ठीक हो सकती है। कुछ नही बस प्याज को काट कर उसका जूस निकाल लें और उसमें कुछ शहद मिला लें। और फिर इसे बालों की जड़ों पर लगा लें। यह बालों की जड़ में रक्त संचार को तो बढ़ाएगा ही साथ ही फंगस और बैक्टीरिया को भी मारेगा।
मेथी के दानें– मेथी गंजेपन को दूर करने में औषधि का काम करता है। मेथी के दानों को पीसकर पेस्ट बना लें। उस पेस्ट को सिर पर जहाँ बाल ज़्यादा गिर रहे हैं उस जगह पर लगायें इससे बालों का झड़ना कम तो हो ही जाएगा साथ ही बाल उगने भी लगेंगे।
• एलोवेरा – इस उपाय को करने के लिए 1 चम्मच एलोवेरा, एक चम्मच प्याज का रस और एक चम्मच शहद मिला कर पेस्ट तैयार कर लीजिए। तैयार किए गए पेस्ट को नहाने के एक घंटे पहले बालों में लगाए। ये उपाय आप कम से कम 3 से 6 महीने तक इस्तेमाल करें, इससे गंजेपन के साथ सफ़ेद बालों की समस्या का भी इलाज हो जाएगा। 
कैस्टर ऑयल– कैस्टर ऑयल गंजापन दूर करने का एक घरेलु उपाय हैं। यह बाल संबंधी किसी भी समस्या के उपचार में बहुत प्रभावकारी होता है। कैस्टर ऑयल स्कैल्प पर लगाने से न सिर्फ बालों को पौष्टिकता मिलती है बल्कि बालों का झड़ना भी कम हो जाता है।
उड़द- आयुर्वेद के इस दूसरे उपाय के अनुसार उड़द दाल भी गंजेपन से छुटकारा दिलाती है। इसके लिए आप उड़द की बिना छिलके वाली दाल का इस्तेमाल करें। इस दाल को उबाल कर पीस लीजिए।
• नींबू बहुत सारे बालों की परेशानी में काम आता है। मसलन, बालों के झड़ने-गिरने में, रुसी को खत्म करने में, ड्राई हेयर में। गंजेपन से लड़ने के लिए नींबू के रस को कई तरह के तेलों में मिला कर लगाएं और सिर की मालिश करें तो काफी असर दिखेगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *